इंटरनेट क्या है और यह कैसे बनता है जानिए संपूर्ण जानकारी 2024 | What is Internet in Hindi 

0
Advertisements

What is Internet in Hindi: तो इंटरनेट दुनिया भर के डेटा का एक जाल है। हम जो भी सूचना इंटरनेट पर सर्च करते है वो कहीं ना कहीं स्टोर है और सर्वर के जरिए हम तक पहुंचती है। करलो दुनिया मुट्ठी में रिलायंस इंडस्ट्री को स्थापित करने वाले धीरूभाई अंबानी ने सन् 2002 में ये डाइअलॉग बोला था, तब सिर्फ ₹600 में मोबाइल लॉन्च कर के आम आदमी के हाथ में मोबाइल थमा दिया था और अब हर किसी के पास स्मार्ट फ़ोन है और उसमें इन्टरनेट है और इन्टरनेट में पूरी दुनियां है। आज वाकई में हम कह सकते है दुनियां हमरी मुठ्ठी में है हमसे हजारों लाखो दूर दुनियां में क्या चल रहा है ये हम आपने मोबइल में देख सकते है और ये सब interne से  ही संभव हो पाया है। Internet क्या है?, इंटरनेट कैसे बनता है? क्या आपको पता है इंटरनेट का मालिक कौन है? आज हम आपको इन्टरनेट के बारे में बहुत कुछ बताएंगे इसलिए आज की पोस्ट को अंत तक ज़रूर पढ़े।

इंटरनेट क्या है? – What is Internet in Hindi

  • इंटरनेट एक विशाल कंप्यूटर नेटवर्क है जो दुनिया भर में फैला हुआ है। यह लाखों-करोड़ों कंप्यूटरों को एक साथ जोड़ता है, जिससे वे एक-दूसरे के साथ संवाद कर सकते हैं और सूचनाओं को साझा कर सकते हैं। इंटरनेट का उपयोग कई तरह के कार्यों के लिए किया जाता है, जैसे कि ईमेल, वेब ब्राउज़िंग, ऑनलाइन खरीदारी, और सोशल मीडिया।
  • इंटरनेट का इतिहास 1960 के दशक में शुरू हुआ, जब संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना ने एक नेटवर्क विकसित किया जिसका उपयोग सैन्य संचार के लिए किया जा सकता था। इस नेटवर्क को इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट (TCP/IP) पर बनाया गया था, जो अभी भी इंटरनेट के लिए बुनियादी प्रोटोकॉल है।
  • 1980 के दशक में, इंटरनेट को आम जनता के लिए खोल दिया गया। तब से, इसने तेजी से विकास किया है और अब यह दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय संचार और सूचना प्रौद्योगिकियों में से एक है।

इंटरनेट की परिभाषा क्या है? – What is the Definition of the Internet?

इंटरनेट नेटवर्क का एक ऐसा मायाजाल है। जिससे की दुनिया के सभी कंप्यूटर को एक साथ एक ही मे जोड़ा जा सके। इंटरनेट एक ऐसा जरिया जिससे की किसी भी कंप्यूटर को हम किसी दूसरे के साथ जोड़ सकते है, फिर वो चाहे दुनिया के किसी भी कोने में स्थित क्यों ना हो। इसलिए इंटरनेट को “नेटवर्कों का नेटवर्क” भीकहा जाता है।

इंटरनेट विश्व स्तर पर ऐसा जुड़ा नेटवर्क सिस्टम है जो कि (TCP/IP) protoc के उपयोग से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार के मीडिया के माध्यम्, से Dislike सूचनाऐं, जानकारियां या (data) डाटा का संचार या आदान-प्रदान के लिए उपयोग किया जाता है। इस नेटवर्क मे कंप्यूटर (server) सर्वर भी शामिल है।

Read Also: कम्प्यूटर क्या है? जानिए इसकी विशेषता, परिभाषा और महत्व एवं संपूर्ण जानकारी 

इंटरनेट की शुरुआत कैसे हुई ? – How did the Internet start?

इंटरनेट की शुरुआत 1960 के दशक में संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना द्वारा हुई थी। उस समय, सेना को एक ऐसे नेटवर्क की आवश्यकता थी जो सैन्य संचार को सुरक्षित और कुशल बना सके। इस नेटवर्क को “ARPANET” (Advanced Research Projects Agency Network) नाम दिया गया था।

ARPANET नेटवर्क को 1969 में चार कंप्यूटरों को जोड़कर बनाया गया था। इन कंप्यूटरों में स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स, यूसीएलए, और यूटा विश्वविद्यालय के कंप्यूटर शामिल थे।

ARPANET नेटवर्क को लगातार विकसित किया गया, और 1970 के दशक में इसे आम जनता के लिए खोल दिया गया। तब से, इंटरनेट ने तेजी से विकास किया है और अब यह दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय संचार और सूचना प्रौद्योगिकियों में से एक है।

इंटरनेट की शुरुआत के लिए निम्नलिखित लोगों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया:

???? Larry Roberts: रॉबर्ट्स को ARPANET का पिता माना जाता है। उन्होंने ARPANET के डिजाइन और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

???? Vint Cerf: सेर्फ़ को इंटरनेट के पिता माना जाता है। उन्होंने इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट (TCP/IP) का विकास किया, जो इंटरनेट के लिए बुनियादी प्रोटोकॉल है।

???? Robert Kahn: काहन ने ईमेल की अवधारणा का विकास किया। उन्होंने ARPANET पर ईमेल सेवा का भी विकास किया।

???? इंटरनेट की शुरुआत ने दुनिया को बदल दिया है। यह लोगों को दुनिया भर में एक-दूसरे से जुड़ने और सूचना तक पहुंचने में सक्षम बनाता है। इंटरनेट ने शिक्षा, व्यवसाय, और मनोरंजन के तरीकों को भी बदल दिया है।

इंटरनेट का पुराना नाम क्या है? – What is the old name of Internet?

इंटरनेट का पुराना नाम “ARPANET” (Advanced Research Projects Agency Network) था। यह नाम संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना की उन्नत अनुसंधान परियोजना एजेंसी के नाम पर रखा गया था, जिसने इसे विकसित किया था। ARPANET को 1969 में चार कंप्यूटरों को जोड़कर बनाया गया था। इन कंप्यूटरों में स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स, यूसीएलए, और यूटा विश्वविद्यालय के कंप्यूटर शामिल थे।

ARPANET नेटवर्क को लगातार विकसित किया गया, और 1970 के दशक में इसे आम जनता के लिए खोल दिया गया। तब से, इंटरनेट ने तेजी से विकास किया है और अब यह दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय संचार और सूचना प्रौद्योगिकियों में से एक है।1980 के दशक में, इंटरनेट को “इंटरनेट” नाम दिया गया। यह नाम इस तथ्य को दर्शाता है कि यह नेटवर्क अब कई विभिन्न नेटवर्कों का एक नेटवर्क है। इस प्रकार, इंटरनेट का पुराना नाम “ARPANET” है।

इंटरनेट का फुल फॉर्म – Full Form of Internet

इंटरनेट का फुल फॉर्म है इंटरकनेक्टेड नेटवर्क। इसका मतलब है “एक-दूसरे से जुड़े हुए नेटवर्क”। इंटरनेट दुनिया भर में फैले हुए कई कंप्यूटर नेटवर्क का एक विशाल नेटवर्क है। यह हमें दुनिया भर के लोगों के साथ संवाद करने, जानकारी तक पहुंचने और उत्पादों और सेवाओं को खरीदने की अनुमति देता है।

इंटरनेट कैसे काम करता है? – How does the Internet work?

What is Internet in Hindi
What is Internet in Hindi

आपको यह बात जानकर आश्चर्य होगा कि पूरी दुनिया का इंटरनेट एक वाइड की मदद से चलता है, जिसे ऑप्टिकल फाइबर केबल या OFC कहते हैं। पूरी दुनिया में धरती के नीचे और समुद्र के अंदर इसका जाल बिछाकर इसे एक देश से दूसरे देश को कनेक्ट किया गया है। नोर्मल्ली जो इलेक्ट्रिक वायर होते है, उसमें इन्फॉर्मेशन को एक जगह से दूसरे जगह तक भेजने के लिए इलेक्ट्रिक करके यूज़ किया जाता है, लेकिन ऑप्टिकल फाइबर केबल इन्फॉर्मेशन को लाइट पल्सेस में कन्वर्ट करके भेजा जाता है। जब हम मोबाइल पर इन्टरनेट में कुछ सर्च करते हैं तब वो इन्फॉर्मेशन इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव के रूप में निकलकर सेल टावर के पास जाता है। इसलिए तरीके से इंटरनेट काम करता है।

Read Also: Screen Lock – Time Password app का इस्तिमाल कैसे करे 

इंटरनेट के उपयोग – Uses of Internet

शिक्षा के क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग

✔️ इंटरनेट ने शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति ला दी है। यह छात्रों को दुनिया भर से जानकारी तक पहुंच प्रदान करता है, उन्हें व्यक्तिगतकृत सीखने की अनुमति देता है, और उन्हें अन्य छात्रों और शिक्षकों के साथ जुड़ने में मदद करता है।

✔️ इंटरनेट का उपयोग शिक्षा के कई तरीकों के लिए किया जा सकता है, जैसे ऑनलाइन पाठ्यक्रम छात्रों को अपने घरों से किसी भी समय और कहीं से भी शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति देते हैं।

✔️ इंटरनेट पर उपलब्ध डिजिटल संसाधन, जैसे कि ई-पुस्तकें, वीडियो, और संगीत, छात्रों को सीखने के लिए नई और इंटरैक्टिव तरीके प्रदान करते हैं।

✔️ इंटरनेट छात्रों को दुनिया भर के अन्य छात्रों के साथ सहयोग करने और एक साथ परियोजनाओं पर काम करने की अनुमति देता है।

✔️ इंटरनेट का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में कई तरह से लाभ प्रदान करता है, जिनमें शामिल हैं:

✔️ इंटरनेट शिक्षा को अधिक सुविधाजनक बनाता है। छात्र अब अपने घरों से सीख सकते हैं, जिससे उन्हें काम या परिवार के दायित्वों के साथ संतुलन बनाने में मदद मिलती है।

✔️ इंटरनेट शिक्षा को अधिक सस्ता बनाता है। छात्र अब पारंपरिक कॉलेज या विश्वविद्यालय में जाने के बिना शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उन्हें छात्र ऋण से बचने में मदद मिल सकती है।

✔️ इंटरनेट शिक्षा को अधिक सुलभ बनाता है। छात्र अब दुनिया भर से शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उन्हें अपने शिक्षा के अवसरों को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

✔️ कुल मिलाकर, इंटरनेट शिक्षा के क्षेत्र में एक शक्तिशाली और परिवर्तनकारी उपकरण है। यह छात्रों को सीखने के नए और बेहतर तरीके प्रदान करता है और यह शिक्षा को अधिक सुलभ और किफायती बनाता है।

बैंकिंग के क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग

इंटरनेट ने बैंकिंग के क्षेत्र में क्रांति ला दी है। यह ग्राहकों को अपने बैंकिंग खातों तक पहुंचने, लेनदेन करने और बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने के नए और सुविधाजनक तरीके प्रदान करता है।

इंटरनेट का उपयोग बैंकिंग के कई तरीकों के लिए किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • ऑनलाइन बैंकिंग: ऑनलाइन बैंकिंग ग्राहकों को अपने बैंकिंग खातों तक पहुंचने और लेनदेन करने की अनुमति देता है, जैसे कि पैसे ट्रांसफर करना, चेक लिखना और बिलों का भुगतान करना।
  • मोबाइल बैंकिंग: मोबाइल बैंकिंग ग्राहकों को अपने मोबाइल फोन से बैंकिंग सेवाओं तक पहुंचने की अनुमति देता है।
  • पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) टर्मिनल: पीओएस टर्मिनल ग्राहकों को अपने बैंक कार्ड का उपयोग करके खरीदारी करने की अनुमति देते हैं।
  • इंटरनेट बैंकिंग ऐप: बैंकिंग ऐप ग्राहकों को अपने बैंकिंग खातों तक पहुंचने और लेनदेन करने की अनुमति देते हैं, जैसे कि पैसे ट्रांसफर करना, चेक लिखना और बिलों का भुगतान करना।

मनोरंजन के क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग

इंटरनेट ने मनोरंजन के क्षेत्र में क्रांति ला दी है। यह लोगों को दुनिया भर से मनोरंजन तक पहुंच प्रदान करता है, उन्हें नए और इंटरैक्टिव तरीके प्रदान करता है, और उन्हें अन्य लोगों के साथ जुड़ने और बातचीत करने में मदद करता है।

इंटरनेट का उपयोग मनोरंजन के कई तरीकों के लिए किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

⚠️ Streaming Service : स्ट्रीमिंग सेवाएं, जैसे कि नेटफ्लिक्स, अमेज़ॅन प्राइम वीडियो, और हॉटस्टार, लोगों को फिल्में, टीवी शो, और अन्य मनोरंजन सामग्री को स्ट्रीम करने की अनुमति देती हैं।

⚠️ Social media : सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, जैसे कि फेसबुक, ट्विटर, और इंस्टाग्राम, लोगों को मनोरंजन सामग्री साझा करने और अन्य लोगों के साथ जुड़ने की अनुमति देते हैं।

⚠️ Gaming : गेमिंग इंटरनेट पर सबसे लोकप्रिय मनोरंजन रूपों में से एक है। लोग विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन गेम खेल सकते हैं, जैसे कि एक्शन गेम, आरपीजी गेम, और स्पोर्ट्स गेम।

⚠️ Online Music: इंटरनेट ने संगीत सुनने के तरीके को बदल दिया है। लोग अब अपने पसंदीदा कलाकारों के संगीत को ऑनलाइन सुन सकते हैं, और वे नए संगीत की खोज भी कर सकते हैं।

इंटरनेट का उपयोग फैक्स में

इंटरनेट ने फैक्सिंग के तरीके को बदल दिया है। पारंपरिक फैक्स मशीनें एक कनेक्शन के माध्यम से एक दूसरे से जुड़ती हैं, जिसे टेलीफोन लाइन कहा जाता है। इंटरनेट फैक्सिंग एक ऐसी तकनीक है जो इंटरनेट का उपयोग करके फैक्स संदेशों को भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देती है। इंटरनेट फैक्सिंग के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं:

???? इंटरनेट फैक्सिंग आपको कहीं से भी फैक्स भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देती है, जहां आपके पास एक इंटरनेट कनेक्शन है।

???? इंटरनेट फैक्सिंग पारंपरिक फैक्सिंग की तुलना में सस्ता हो सकता है, खासकर यदि आप लंबी दूरी के फैक्स भेजते हैं।

???? इंटरनेट फैक्सिंग पारंपरिक फैक्सिंग की तुलना में अधिक सुरक्षित हो सकती है, क्योंकि यह एन्क्रिप्शन का उपयोग करती है।

???? इंटरनेट फैक्सिंग का उपयोग करने के कई तरीके हैं। एक तरीका यह है कि एक ऑनलाइन फैक्सिंग सेवा का उपयोग करें।

???? ऑनलाइन फैक्सिंग सेवाएं आपको अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस से फैक्स भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देती हैं।

E-Mail में इंटरनेट का उपयोग

ईमेल, या इलेक्ट्रॉनिक मेल, एक ऐसा तरीका है जिससे लोग संदेश भेज और प्राप्त कर सकते हैं, जिसे “e-mail ” कहा जाता है, इंटरनेट का उपयोग करके। ईमेल संदेश किसी भी प्रकार की जानकारी हो सकते हैं, जैसे कि पाठ, छवियां, या दस्तावेज़। इंटरनेट ईमेल को संभव बनाता है क्योंकि यह कंप्यूटरों को एक दूसरे से जुड़ने और संवाद करने की अनुमति देता है। ईमेल संदेश इंटरनेट के माध्यम से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक भेजे जाते हैं।

ईमेल का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे कि:

  1. व्यक्तिगत संचार: लोग ईमेल का उपयोग दोस्तों, परिवार, और अन्य व्यक्तियों के साथ संवाद करने के लिए करते हैं
  2. व्यावसायिक संचार: व्यवसाय ईमेल का उपयोग ग्राहकों, आपूर्तिकर्ताओं, और कर्मचारियों के साथ संवाद करने के लिए करते हैं।
  3. सूचना साझा करना: लोग ईमेल का उपयोग जानकारी साझा करने के लिए करते हैं, जैसे कि दस्तावेज़, चित्र, और लिंक। ईमेल एक शक्तिशाली संचार उपकरण है जो लोगों को दुनिया भर में एक-दूसरे से जुड़ने और बातचीत करने में सक्षम बनाता है। यह सुविधाजनक, किफायती और उपयोग में आसान है।

Online Trading में इंटरनेट का उपयोग

इंटरनेट ने ऑनलाइन ट्रेडिंग को संभव बनाया है, जिससे निवेशकों को दुनिया भर से स्टॉक, बॉन्ड, और अन्य वित्तीय साधनों में व्यापार करने की अनुमति मिलती है। ऑनलाइन ट्रेडिंग ने निवेश को अधिक सुलभ और सुविधाजनक बना दिया है, क्योंकि निवेशक अब अपने घरों से या कहीं से भी व्यापार कर सकते हैं।

ऑनलाइन ट्रेडिंग का उपयोग करने के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं:

???? सुविधा: ऑनलाइन ट्रेडिंग आपको कहीं से भी व्यापार करने की अनुमति देती है, जहां आपके पास एक इंटरनेट कनेक्शन है।

???? सस्ते: ऑनलाइन ट्रेडिंग पारंपरिक ट्रेडिंग की तुलना में सस्ता हो सकता है, क्योंकि इसमें कम शुल्क शामिल हैं।

???? सूचना: ऑनलाइन ट्रेडिंग आपको बाजार की जानकारी तक पहुंच प्रदान करती है, जो आपको अपने निवेश निर्णय लेने में मदद कर सकती है।

???? वैकल्पिक: ऑनलाइन ट्रेडिंग आपको विभिन्न प्रकार के वित्तीय साधनों में व्यापार करने की अनुमति देती है।

ऑनलाइन ट्रेडिंग के कुछ नुकसान भी हैं, जिनमें शामिल हैं:

???? जोखिम: ऑनलाइन ट्रेडिंग उच्च जोखिम वाली हो सकती है, क्योंकि शेयर की कीमतें उतार-चढ़ाव कर सकती हैं।

धोखाधड़ी: ऑनलाइन ट्रेडिंग में धोखाधड़ी का खतरा होता है, इसलिए निवेशकों को सावधान रहना चाहिए।

???? प्रशिक्षण: ऑनलाइन ट्रेडिंग में सफल होने के लिए कुछ प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है।

यहां कुछ विशिष्ट उदाहरण दिए गए हैं कि कैसे इंटरनेट का उपयोग ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए किया जाता है:

निवेशक अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस का उपयोग करके एक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म तक पहुंच सकते हैं।

निवेशक प्लेटफॉर्म पर स्टॉक, बॉन्ड, और अन्य वित्तीय साधनों की कीमतों को देख सकते हैं और ट्रेडिंग ऑर्डर दे सकते हैं।

निवेशक अपने ट्रेडिंग के प्रदर्शन को ट्रैक कर सकते हैं और अपनी रणनीति को समायोजित कर सकते हैं।ऑनलाइन ट्रेडिंग ने निवेश को अधिक सुलभ और सुविधाजनक बना दिया है। यह निवेशकों को दुनिया भर से व्यापार करने की अनुमति देता है और उन्हें बाजार की जानकारी तक पहुंच प्रदान करता है।

Read Also: किसी भी एंड्रॉइड पर जेस्चर लॉक स्क्रीन का उपयोग कैसे करें 

दूर स्थित डेटा को व्यस्थित रूप से Access करने में इंटरनेट का उपयोग

इंटरनेट का उपयोग करके दूर स्थित डेटा तक पहुंचने के कई तरीके हैं। एक तरीका क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग करना है। क्लाउड कंप्यूटिंग एक सेवा है जो उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटिंग संसाधनों, जैसे कि डेटा स्टोरेज, प्रोसेसिंग पावर, और एप्लिकेशन, तक पहुंच प्रदान करती है। क्लाउड कंप्यूटिंग उपयोगकर्ताओं को दूर स्थित डेटा को संग्रहीत करने और एक्सेस करने की अनुमति देती है, जिससे इसे प्रबंधित करना आसान हो जाता है।

एक अन्य तरीका वेब-आधारित डेटाबेस का उपयोग करना है। वेब-आधारित डेटाबेस इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किए जा सकने वाले डेटाबेस हैं। वेब-आधारित डेटाबेस उपयोगकर्ताओं को दूर स्थित डेटा को आसानी से एक्सेस और प्रबंधित करने की अनुमति देते हैं।

Internet, Intranet और Extranet के बीच अंतर

विशेषताइंटरनेटइंट्रानेटएक्सट्रानेट
परिभाषाएक वैश्विक नेटवर्क जो कंप्यूटरों को एक दूसरे से जोड़ता हैएक निजी नेटवर्क जो एक संगठन के भीतर उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध हैएक निजी नेटवर्क जो एक संगठन के बाहरी भागीदारों के लिए उपलब्ध है
मालिककोई भीएक संगठनएक संगठन
पहुंचसार्वजनिकसीमितसीमित
सुरक्षाकम सुरक्षाअधिक सुरक्षामध्यम सुरक्षा
उपयोगसंचार, सूचना, व्यवसाय, मनोरंजनसंचार, सूचना, व्यवसायसंचार, सूचना, व्यवसाय
उदाहरणवेब ब्राउजिंग, ईमेल, सोशल मीडियाइंट्रानेट वेबसाइट, फ़ाइल शेयरिंग, ईमेलई-कॉमर्स, ग्राहक सेवा, सहयोग

इंटरनेट की खोज किसने की – who discovered the internet

What is Internet in Hindi 
What is Internet in Hindi 

इंटरनेट की खोज किसी एक व्यक्ति ने नहीं की। इसमें कई लोगों का योगदान था, जिनमें वैज्ञानिक, इंजीनियर, और शोधकर्ता शामिल थे। इंटरनेट के विकास में सबसे महत्वपूर्ण योगदानों में से एक 1960 के दशक में किया गया था, जब अमेरिकी रक्षा विभाग ने एक नेटवर्क विकसित किया था जिसे ARPANET कहा जाता था। ARPANET का उपयोग सेना के अनुसंधान समूहों को एक दूसरे से जुड़ने और संवाद करने के लिए किया जाता था।

  • ARPANET के विकास में शामिल कुछ प्रमुख लोगों में शामिल हैं:
  • John McCarthy: मैकार्थी एक कंप्यूटर वैज्ञानिक थे जिन्होंने ARPANET की परिकल्पना की थी।
  • लैरी रॉबर्ट्स: रॉबर्ट्स एक इंजीनियर थे जिन्होंने ARPANET को बनाया था।
  • Vinton Cerf: सेर्फ़ एक कंप्यूटर वैज्ञानिक थे जिन्होंने ARPANET के लिए इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट (TCP/IP) का विकास किया था।

1970 के दशक में, ARPANET में अन्य नेटवर्क शामिल किए गए, जैसे कि NSFNET, जो राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन द्वारा वित्त पोषित था। NSFNET ने ARPANET को एक सार्वजनिक नेटवर्क में बदल दिया, जिससे इसे दुनिया भर के लोगों द्वारा उपयोग किया जा सके।

इंटरनेट का इतिहास – History of Internet in Hindi

इंटरनेट का इतिहास 1960 के दशक में शुरू हुआ, जब अमेरिकी रक्षा विभाग ने एक नेटवर्क विकसित किया था जिसे ARPANET कहा जाता था। ARPANET का उपयोग सेना के अनुसंधान समूहों को एक दूसरे से जुड़ने और संवाद करने के लिए किया जाता था।

⬅️ 1980 के दशक में, इंटरनेट ने व्यापक रूप से अपनाया जाना शुरू किया। इस दौरान, कई नए अनुप्रयोगों का विकास किया गया, जैसे कि ईमेल, वेब ब्राउज़िंग, और फ़ाइल शेयरिंग।

⬅️ 1990 के दशक में, इंटरनेट ने एक वैश्विक संचार और सूचना नेटवर्क के रूप में अपनी स्थिति मजबूत की। इस दौरान, कई नए इंटरनेट-आधारित व्यवसाय और सेवाएं विकसित की गईं।

⬅️ आज, इंटरनेट दुनिया भर में अरबों लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है। यह संचार, शिक्षा, व्यवसाय, और मनोरंजन के लिए एक आवश्यक उपकरण है।

इंटरनेट के लाभ और हानि

लाभहानि
संचार को बढ़ाता है।लत का कारण बन सकता है
जानकारी तक पहुंच को बढ़ाता हैसुरक्षा का खतरा पैदा कर सकता है
व्यापार को बढ़ावा देता हैअसमानता को बढ़ा सकता है
मनोरंजन प्रदान करता हैजालसाजी और भ्रामक जानकारी का खतरा पैदा कर सकता है

इंटरनेट के प्रकार – Types of Internet

इंटरनेट को कई अलग-अलग तरीकों से वर्गीकृत किया जा सकता है। एक सामान्य तरीका इसे आकार के आधार पर वर्गीकृत करना है। इस आधार पर, इंटरनेट को दो मुख्य प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है:

???? सार्वजनिक इंटरनेट: सार्वजनिक इंटरनेट वह इंटरनेट है जिस तक कोई भी व्यक्ति पहुँच सकता है। यह दुनिया भर के लाखों लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है।

???? निजी इंटरनेट: निजी इंटरनेट वह इंटरनेट है जो केवल एक विशेष समूह या संगठन के लिए उपलब्ध है। इसका उपयोग अक्सर व्यवसायों, सरकारों, या विश्वविद्यालयों द्वारा किया जाता है।

???? संचार इंटरनेट: संचार इंटरनेट का उपयोग लोगों को एक-दूसरे से संवाद करने के लिए किया जाता है। इसमें ईमेल, चैटिंग, और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग शामिल हैं।

???? सूचना इंटरनेट: सूचना इंटरनेट का उपयोग जानकारी तक पहुंचने के लिए किया जाता है। इसमें वेब ब्राउज़िंग, खोज इंजन, और ऑनलाइन पुस्तकालय शामिल हैं।

???? व्यापार इंटरनेट: व्यापार इंटरनेट का उपयोग व्यवसायों द्वारा ग्राहकों तक पहुंचने और अपने संचालन को कुशल बनाने के लिए किया जाता है। इसमें ऑनलाइन खरीदारी, बैंकिंग, और ई-कॉमर्स शामिल हैं।

???? मनोरंजन इंटरनेट: मनोरंजन इंटरनेट का उपयोग मनोरंजन के लिए किया जाता है। इसमें फिल्में, संगीत, और वीडियो गेम शामिल हैं।

FAQS: What Is Internet In Hindi

इंटरनेट कहां से आता है?

इंटरनेट कहां से आता है, इसका एक सरल उत्तर है: यह दुनिया भर के कंप्यूटरों से आता है। इंटरनेट को एक नेटवर्क कहा जाता है क्योंकि यह कंप्यूटरों का एक नेटवर्क है। ये कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़े हुए हैं और डेटा का आदान-प्रदान कर सकते हैं। इंटरनेट का आकार बहुत बड़ा है। यह दुनिया भर के सभी महाद्वीपों में फैला हुआ है। इंटरनेट को चलाने के लिए, दुनिया भर में कई कंपनियां और संगठन काम करते हैं। ये कंपनियां और संगठन इंटरनेट के बुनियादी ढांचे को बनाए रखती हैं, जैसे कि सर्वर और केबल।

भारत में पहला इंटरनेट कब शुरू हुआ?

भारत में पहला इंटरनेट 1986 में शुरू हुआ था। उस समय, इसे केवल शैक्षिक और अनुसंधान समुदाय के लिए उपलब्ध कराया गया था। इंटरनेट तक आम जनता की पहुंच 15 अगस्त 1995 को शुरू हुई, और 2020 तक 718.74 मिलियन सक्रिय इंटरनेट उपयोगकर्ता हैं जिनमें 54.29% आबादी शामिल है।

इंटरनेट कैसे बनता है?

इंटरनेट को बनाने के लिए इन घटकों को एक साथ काम करने की आवश्यकता होती है। कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके एक दूसरे से संवाद करते हैं, और बुनियादी ढांचा इन संदेशों को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक पहुंचाता है। सबसे पहले, कंप्यूटरों को एक साथ जोड़ने की आवश्यकता होती है। यह केबल, वायरलेस, या अन्य तरीकों से किया जा सकता है। एक बार जब कंप्यूटर एक साथ जुड़ जाते हैं, तो उन्हें इंटरनेट के साथ संवाद करने के लिए सॉफ़्टवेयर स्थापित करने की आवश्यकता होती है। अंत में, इंटरनेट को चलाने के लिए बुनियादी ढांचे को स्थापित करने की आवश्यकता होती है। इसमें केबल, स्विच, और अन्य उपकरण शामिल हैं जो कंप्यूटरों को एक दूसरे से जोड़ते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here