Algorithm क्या है? और आसानी से कैसे लिखे? पूरी जानकारी हिंदी मे

0
146
Algorithm kya hai

हेलो दोस्तों! आपने कभी कभी Algorithm के बारे में तो सुना ही होगा Algorithm का इस्तेमाल पढ़ाई में ज्यादातर किया जाता है आज मैं आपको इस आर्टिकल में एल्गोरिदम क्या है और आसानी से कैसे देखें इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूं अगर आप एल्गोरिदम के बारे में जानकारी जाना चाहते हैं।

तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए ही है इस आर्टिकल में आज हम Algorithm क्या है और इसे आसानी से कैसे लिखें इन सभी के बारे में जानकारी दूंगा और मैं कोशिश करूंगा कि एल्गोरिथ्म से जुड़ी सारे सवालों के जवाब आपको दे दो ताकि और सवालों के लिए आपको कहीं और जाने की जरूरत ना पड़े।

Algorithm के बारे में आपने कभी ना कभी तो जरूर सुना होगा जैसे कि जब भी हम कोई नए काम की शुरुआत करने जाते हैं तो हम उस काम के बारे में सोचते हैं कि उसे कैसे करना है कहां करना है किस तरीके से करना है इन सारे यू योजना को हम अपने दिमाग में तैयार करते हैं और उसे एक पेज पर लिख कर तैयार करते हैं।

उसी तरह एल्गोरिथ्म का मुख्य काम यही होता है कि वह कंप्यूटर की भाषा में Program लिखने से पहले Programming Language में एल्गोरिदम को बनाया जाता है जिससे कि एल्गोरिथ्म को आसानी से प्रोग्राम बनाया जा सके और किसी भी समस्या का समाधान ढूंढने से पहले हम अक्सर कुछ तरीकों को ढूंढते हैं और उन स्टेप्स करते हैं उसे कंप्यूटर की लैंग्वेज में Algorithm कहा जाता है।

Algorithm क्या है?

Algorithm एक तरीके का Step by Step Process होता है जब एक ऐसा फार्मूला होता है जो कि कंप्यूटर को लैंग्वेज को बनाने मैं मदद करता है भी एक ऐसा फार्मूला है जो कि समस्या का समाधान निकलता है यह एक ऐसा प्रोसेस है जिसमें सीमित नियम होते हैं जिससे कि हम लोग इंग्लिश भाषा में Instruction भी कहते हैं।

जिन नियमों को एक के बाद जोड़कर पर ही ध्यान से लिखा जाता है और हर एक नियम स्टेप्स को कुछ ना कुछ ऐसे Operation को दर्शाया जाता है वही सारे नियमों के जरिए Problem का Solution निकलता है और उसी को हम लोग एल्गोरिदम कहते हैं यह कंप्यूटर की भाषा में इस्तेमाल होता है।

Algorithm की परिभाषा

अगर मैं आपको आसान भाषा में समझाऊं तो Algorithm किसी भी समस्या का या फिर कंप्यूटर की भाषा में बोलूं तो किसी भी Problem का Solution निकालने में एक Step by Step Process होता है उस Process को हम लोग Algorithm कहते हैं। Algorithm  में कुछ ऐसे स्टेप्स किए होते हैं जो कि हर एक स्टेप्स अपने हर एक ऑपरेशन को दर्शाते हैं।

जब एक्सटेप्स की शुरुआत होती है तो आखिर में जाकर दूसरे स्टेप्स रह जाता है जो कि उसे खत्म पड़ता है और इन दोनों स्टेप्स के बीच में और भी बहुत सारे स्टेप होते हैं जो कि अलग-अलग कार्य को दर्शाते हैं जैसे कि चावल बनाना यही एक समस्या है इस काम को खत्म करने के लिए मैं आपको कुछ स्टेप्स लिखने को देता हूं पहले चावल को धोना होगा फिर पानी गरम करो फिर पानी गरम करने के उसमें चावल डालना है और चावल को पढ़ने का इंतजार करना है।

जैसे ही 15 मिनट हो जाए चावल को बंद कर देना तो यहां पर आपको समझ में आया चावल बने की शुरुआत के Steps से लेकर चावल बन जाने के अंत तक स्टेप होते हैं उसी को Algorithm कहा जाता है और उसके बीच में चावल को पानी से धोना चावल को उबालना ने यह सारे ऑपरेशन होते हैं जो कि एक स्टेप्स से दूसरे स्टेप्स के बीच में होते हैं।

Algorithm का फाउंडर कौन है?

अगर बात करो कि Algorithm  को किसने बनाया है मतलब कि Algorithm  के फाउंडर कौन है तो Algorithm  शब्द का परिचय पहली बार नौवीं शताब्दी में हुआ था और उस समय फारसी गणितज Abu Abdullah Muhammad Ibn Musa Al-Khwarizmi की को Algorithm  का फाउंडर माना जाता है इन्होंने ही Algorithm  को बनाया है और इसकी जितनी भी नियम है वह सब इन्होंने ही बनाकर तैयार किया है जिसका उपयोग आज के जमाने में किया जाता है।

Algorithm को कैसे लिखें

Algorithm लिखना बहुत ही ज्यादा आसान है इसमें आपको ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं होती है लेकिन अगर एक बार आपको Algorithm  लिखना आ गया तो आप कंप्यूटर की भाषा को भी अच्छे से समझ जाओगे इसमें आपको दो इस एप्स को ध्यान से रखना है और इसी को Steps by Steps लिखना है।

Algorithm  की जरूरत आमतौर पर कंप्यूटर के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में इस्तेमाल की जाती है उसी जगह पर Algorithm  का इस्तेमाल बहुत ज्यादा होता है ताकि कंप्यूटर में जितने भी Programming Language है वह सब सही से हो और सारे समस्या का समाधान एक-एक करके Step by Step निकले आप इसे Direct भी लिखना सीख सकते हैं या आप कुछ नियम का इस्तेमाल करके भी Algorithm  को लिख सकते हैं।

Step 1 – Algorithm  को लिखने के लिए सबसे पहले आपको स्टार्ट करना होगा।

Step 2 – दो नंबर ले जैसे कि A और B

Step 3 – अब दोस्तो दोनों को जोड़ दें और इसे किसी Sum Value में स्टोर करदे।

Step 4 – आप अपने रिजल्ट को Show करे।

Step 5 – अब आपको स्टॉप करना है।

दोस्तों यह एक उदाहरण के तौर पर मैंने आपको बताया है कि आप इस तरीके से एल्गोरिदम क्यों लिख सकते हैं जैसे कि किसी भी तो नंबर को आप जोड़कर उसे एक तरह से एल्गोरिदम लिख सकते हैं लेकिन मैंने यहां पर आपको हिंदी भाषा में एल्गोरिथ्म लिखने के बारे में सिखाया है इंग्लिश भाषा में भी आपको इसी तरीके से एल्गोरिथ्म लिखने का तरीका मिलेगा।

Algorithm के Uses

आप सभी इतना तो जानते ही होंगे कि Algorithm  का प्रयोग आजकल तो हर जगह इस्तेमाल होना शुरू हो गया किसी भी तरीके से कोई भी परेशानी कंप्यूटर में आती है उसे Algorithm  के द्वारा ठीक किया जाता है अगर देखा जाए तो हमारे अनुसार इसका इस्तेमाल ज्यादातर कंपनी में इंडस्ट्रीज में और जो भी प्रोग्रामिंग वाले कार्य होते हैं उन सब में किया जाता है तो आइए मैं आपको इसके Uses बारे में बताता हूं।

  • मैथमेटिकल प्रॉब्लम को ठीक करने के लिए एक अच्छा और सही तरीके से एल्गोरिदम का इस्तेमाल होना बहुत जरूरी है जैसे कि एक नंबर 0 से भरा है तो वह Positive मैं जाएगा और अगर 0 से छोटा है तो वह Negative में जाएगा।
  • जितने भी हमारे पास सोशल मीडिया Platform है जैसे कि Facebook, Google, Search Ingine, यह सब भी एल्गोरिदम के अनुसार सारा काम करता है।
  • कंप्यूटर साइंटिस्ट और सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी एल्गोरिथ्म का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि उनका सारा काम एल्गोरिदम के अनुसार ही चलता है और उन्हें बहुत काम करना होता है इसलिए वह अपना समय बचाने के लिए एल्गोरिदम का इस्तेमाल करते हैं।
  • Flowchart मैं गलतियां ना हो इसलिए उसमें पहले से ही एल्गोरिथ्म का प्रयोग किया जाता है।
  • बहुत सारे टेक्नोलॉजी वाले क्षेत्र में जैसे कि Space Research, Robotics, AI इन सारे क्षेत्रों में भी आयोग निगम का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इन सारे क्षेत्र में सारे काम एल्गोरिदम की मदद से ही पूरा हो पाता है।
  • Program लिखने से पहले कंप्यूटर लैंग्वेज प्रोग्राम इमेज वेतन का इस्तेमाल किया जाता है अगर आप कंप्यूटर साइंस या फिर BCA, IT, MCA के छात्र हैं तो आपको भी प्रोग्राम के बारे में सिखाया जाएगा और उसके बारे में आपको लिखना होगा।
  • Pseudo Code क नाम आपने सुना होगा इसमें भी आवेदन का इस्तेमाल किया जाता है अगर इसमें एल्गोरिदम का सही से इस्तेमाल ना किया जाए तो इस कोड को फिर से लिखना पड़ सकता है।

Characteristics of Algorithm in Hindi

जैसा कि मैंने आपको बताया एल्गोरिथ्म एक स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस है। एल्गोरिथ्म में जो स्टेप्स कापुस होता है वह स्टेप कर्म में Execute होंगे जिसे हम लोग को Desired Output मिल सके। आमतौर पर एल्गोरिदम को दो कारक के द्वारा Analyze किया जाता है जैसे Time और Space यह बताता है कि एल्गोरिदम लिखने के लिए कितना समय लगेगा और स्पेस से यह पता चलता है कि कितने कम समय में हम लिख सकते हैं।

  • Unambiguous – हम जब पर लिखाई करते हैं तो वह एकदम स्पष्ट और सटीक होना चाहिए यह बहुत ही जरूरी हो जाता है और उसकी हर एक Steps या फिर लाइन का कुछ मीनिंग होना चाहिए।
  • Finiteness – हर एक एल्गोरिथ्म कुछ सीमित स्टेप्स के अंदर ही खत्म हो जाना चाहिए वह अगर सीमित रेखा के बाहर जाता है तो फिर वह गलत साबित हो जाएगा और हर एक Step Finite यानी की सीमित बार Repeat होना चाहिए Steps का Execution भी सीमित समय के लिए होना चाहिए हर एक कोई ना कोई मतलब होना चाहिए।
  • Input – हर एलुमिनियम 0 या फिर 0 से ज्यादा सटीक Steps होना चाहिए।
  • Output – जैसे हर एल्गोरिथ्म का Input Step होते हैं वैसे ही एल्गोरिथ्म का Output Steps भी होना चाहिए और Output भी वही आना चाहिए जिसके लिए हम लिखें है।
  • Effectiveness – Time और Space से Effectiveness का अंदाजा लगाया जा सकता है अगर एल्गोरिथ्म कम टाइम और स्पेस में लिखा जाता है या फिर कम समय में एग्जीक्यूट होता है और कम Space में Run होता है इसे ही Effectiveness कहते हैं।

Conclusion

Algorithm क्या है और इसे आसानी से कैसे लिखे यह थी एल्गोरिदम के बारे में पूरी जानकारी अगर और भी जानकारी रह गई हो तो हम आपको आगे जरूर बताएंगे लेकिन एल्गोरिदम के बारे में जितनी भी जरूरी जानकारी थी वह सब मैंने आपको किस आर्टिकल में बड़े आसान भाषा में समझाने की कोशिश की है मुझे पूरी उम्मीद है कि आप को मेरे बताए गए इस आर्टिकल से थोड़ी मदद मिली होगी ऐसे और भी आर्टिकल्स पढ़ने के लिए हमारे वेबसाइट पर आप आ सकते हैं धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here